महाराष्ट्र के जालना गांव के रहने वाले आईएएस IAS ऑफिसर अंसार अहमद शेख (Ansar Ahmad Sheikh) ने मात्र 21 साल की उम्र में 371 रैंक के साथ यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा पास कर अपना सपना पूरा किया है। अंसार बेहद गरीब परिवार में पले बढ़े और जिंदगी में तमाम परेशानियों का सामना किया।

करियर डेस्क. कहते हैं सफलता कभी किसी सुविधा की मोहताज नहीं होती। किसी विद्वान द्वारा ये लाइनें यूं ही नहीं कही गई हैं। हमारा हौसला अगर बुलंद हो, तो हम अपनी मंजिल को जरूर प्राप्त कर सकते हैं। आज हम एक ऐसे व्यक्ति की बात करेंगे, जो बेहद गरीबी में पले-बढ़े मगर आज वह सफलता के उस शिखर को पा चुके हैं, जिसे प्राप्त करना बेहद मुश्किल है। आज हम आपको 2015 बैच के IAS ऑफिसर अंसार अहमद शेख की कहानी बताने जा रहे हैं।

महाराष्ट्र के जालना गांव के रहने वाले आईएएस IAS ऑफिसर अंसार अहमद शेख (Ansar Ahmad Sheikh) ने मात्र 21 साल की उम्र में 371 रैंक के साथ यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा पास कर अपना सपना पूरा किया है। अंसार बेहद गरीब परिवार में पले बढ़े और जिंदगी में तमाम परेशानियों का सामना किया।

रिक्शा चालक थे अंसार के पिता 

अंसार अहमद शेख (Ansar Ahmad Sheikh) बहुत ही ग़रीब परिवार से हैं। उनके पिता रिक्शा चलाते थे। पूरे दिन कड़ी मेहनत करने के बाद भी 100-150 रुपए ही कमा पाते थे। अंसार चार भाई बहन हैं। उनके बड़े भाई बेहद ही कम उम्र से एक गैराज में काम करने लगे ताकि घर चल सके। हालत इतने बुरे थे कि जब अंसार चौथी कक्षा में गए तब उनके पिता ने उनकी पढ़ाई बंद करवाने वाले थे परंतु अध्यापक के कहने पर उनकी आगे की पढ़ाई जारी रही। अंसार शुरू से ही पढ़ाई में बहुत अच्छे थे।

हर क्लास में फर्स्ट आते थे अंसार

अंसार हर कक्षा में प्रथम आते थे। 10वीं में उनके बहुत अच्छे अंक आए थे। साथ ही 12वीं 91% के साथ पास किया था। उसके बाद उन्होंने आगे की पढ़ाई पुणे (Pune) के एक बड़े कॉलेज से की। वह वहां से पॉलिटिकल साइंस से बीए BA करने लगे। इस दौरान किसी ने उन्हें यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा देने की सलाह दी, जिसके बाद उन्होंने इस परीक्षा को देने का फैसला किया।

फीस न होने से चौथी क्लास में ही पढ़ाई बंद करा रहे थे पिता, बेटे ने की जी-तोड़ मेहनत और बन गया IAS

371वीं रैंक के साथ हुए UPSC की परीक्षा में सफल

अंसार अहमद शेख (Ansar Ahmad Sheikh) के लिए यूपीएससी (UPSC) का सफर बिल्कुल भी आसान नहीं था। एक रिपोर्ट के मुताबिक यूपीएससी (UPSC) की तैयारी के दौरान वह पैसों के लिए एक होटल में वेटर का काम करते थे। अंसार सुबह 8 बजे से लेकर देर रात तक काम किया करते थे, परंतु उन्होंने अपनी पढ़ाई नहीं छोड़ा। वह काम करने के साथ-साथ अपने पढ़ाई को भी पूरा समय देते थे। साल 2015 में उनका यह सफर पूरा हुआ। 371वीं रैंक के साथ उन्होंने यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा को पास किया। 

YOUR REACTION?

Facebook Conversations



Disqus Conversations