पूर्व आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर ने सूचना आयुक्त पद के लिए आवेदन किया है। शनिवार को किए गए आवेदन में अमिताभ ठाकुर ने कहा, उनके पास न सिर्फ सभी आवश्यक अर्हताएं हैं, बल्कि वे इस पद के लिए सबसे अधिक उपयुक्त भी हैं।

लखनऊ(Uttar Pradesh). पूर्व आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर ने सूचना आयुक्त पद के लिए आवेदन किया है। शनिवार को किए गए आवेदन में अमिताभ ठाकुर ने कहा, उनके पास न सिर्फ सभी आवश्यक अर्हताएं हैं, बल्कि वे इस पद के लिए सबसे अधिक उपयुक्त भी हैं। उन्होंने यहां तक कहा कि वे एक रुपए की टोकन धनराशि पर भी काम करने को तैयार हैं। उन्होंने अनुरोध किया कि उन्हें नियुक्त किया जाए ताकि वे आरटीआई एक्ट का वास्तविक लाभ दिलवाने में योगदान दें।

अमिताभ ठाकुर ने अपने आवेदन में लिखा है कि “मेरा अकादमिक प्रदर्शन शुरू से ही बहुत अच्छा रहा है और आईआईटी कानपुर से बीटेक के अलावा मैंने आईपीएस की सेवा में आने के बाद भी आईआईएम लखनऊ से मानव संसाधन प्रबंधन में फेलोशिप किया है, जो मैनेजमेंट में पीएचडी के समतुल्य है। मैंने लगभग 28 वर्षों तक आईपीएस अफसर के रूप में कार्य किया है, जिस दौरान मैंने फील्ड पोस्टिंग सहित विभिन्न ईकाइयों में कार्य किया तथा उनका अनुभव प्राप्त किया।

विधि का अच्छा ज्ञान व जानकारी- अमिताभ ठाकुर 

अमिताभ ठाकुर ने लिखा है कि मुझे विधि का भी बहुत अच्छा ज्ञान एवं जानकारी है। मैंने न सिर्फ व्यक्तिगत रूप से न्यायालयों में उपस्थित हो कर तमाम जनहित याचिकाओं एवं अन्य लोकहित में मामलों पर बहस की है, बल्कि मैंने अपने सेवा संबंधित विभिन्न प्रकरणों एवं मेरे साथ किए गए विभिन्न अनाचार एवं कदाचार के संबंध में भी अपने तमाम मुकदमों की खुद ही बहस की है और आज भी कर रहा हूं। मुझे आरटीआई का भी बहुत अच्छा अनुभव एवं जानकारी है। मैंने आरटीआई एक्ट पारित होने के बाद से लगातार इसका प्रयोग करने शुरू कर दिया था।”

अमिताभ ठाकुर को दी गई थी अनिवार्य सेवानिवृत्ति 

गौरतलब है कि आईपीएस अमिताभ ठाकुर को गृहमंत्रालय के अनुपालन में अनिवार्य सेवानिवृत्ति बीते 23 मार्च को दी गई थी। जिसके बाद उन्होंने अपने घर के बाहर एक बोर्ड लगा लिया था जिसमें लिखा था अमिताभ ठाकुर, आईपीएस, जबरिया रिटायर्ड। इस पर वह मीडिया की सुर्खियां भी बने थे।