आईपीएस संगीता कालिया मूलरूप से भिवानी जिले की रहने वाली हैं। संगीता की 12वीं तक की पढ़ाई भिवानी से ही हुई है। उन्होंने अशोका यूनिवर्सिटी से इकोनॉमिक्स में पोस्ट ग्रेजुएशन किया है।

करियर डेस्क. कहते हैं सफलता कभी किसी सुविधा की मोहताज नहीं होती है। ये कहावत बिलुकल सटीक साबित होती है 2009 बैच की IPS आफिसर संगीता कालिया पर। संगीता हरियाणा कैडर की IPS अफसर हैं। उनके पिता हरियाणा पुलिस में कारपेंटर थे। लेकिन संगीता का सपना शुरू से ही सिविल सर्विस में जाने का था और उन्होंने वो करके भी दिखाया। 

आईपीएस संगीता कालिया मूलरूप से भिवानी जिले की रहने वाली हैं। संगीता की 12वीं तक की पढ़ाई भिवानी से ही हुई है। उन्होंने अशोका यूनिवर्सिटी से इकोनॉमिक्स में पोस्ट ग्रेजुएशन किया है। पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद संगीता को लगा कि जल्द ही उनके पिता रिटायर हो जाएंगे और उससे पहले उन्हें खुद से सक्षम होना होगा। उनके पिता का सपना था कि उनकी बेटी भी अफसर बने। इसी के बाद संगीता ने मन बना लिया कि वह यूपीएससी क्रैक करके ही रहेंगी। इसलिए वह पूरी तरह से यूपीएससी की तैयारी में जुट गई।

मंत्री अनिल विज और आईपीएस संगीता कालिया (फाइल फोटो)

असफलता के बाद भी नहीं मानी हार

संगीता ने साल 2005 में पहली बार यूपीएससी की परीक्षा दी तो वह उसमें सफल नहीं हो पाई। लेकिन उनके अंदर अपना सपना पूरा करने का जुनून था जिसकी वजह से उन्होंने अपनी गलतियों को सुधारा और दूसरे प्रयास में यूपीएससी क्रैक कर रेलवे सर्विसेज में सफलता हासिल की थी। मगर उन्होंने आईआरएस जॉइन नहीं किया और फिर से यूपीएससी की परीक्षा दी। आखिरकार तीसरे अटेम्प्ट में वह आईपीएस (IPS) बनने में सफल हुई। जैसा कि संगीता ने दृढ़ संकल्प किया था, जब उनके पिता 2010 में फतेहाबाद पुलिस से रिटायर हुए वह तब तक हरियाणा पुलिस में एक आईपीएस अधिकारी बन चुकी थी।

मंत्री से भिड़ने के बाद हुई थीं चर्चित 

संगीता कालिया का वर्ष 2018 में स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज से विवाद हुआ था। तब भी वह चर्चा में रहीं. अनिल विज फतेहाबाद में कष्ट निवारण समिति की बैठक ले रहे थे। नशे की बिक्री संबंधित एक शिकायत पर विज ने संगीता कालिया से जवाब मांगा। तब संगीता कालिया ने जवाब दिया कि हमने शराब तस्करों पर साल में ढाई हजार मामले दर्ज कर दिए. पुलिस किसी को गोली तो मार नहीं सकती। इसी बात पर विज व संगीता कालिया के बीच कहासुनी हुई, जिसके बाद बैठक बीच में ही रोकनी पड़ी थी। एक बार फिर वैसा ही मामला हुआ। मंत्री विज से भिड़ने के बाद संगीता कालिया रेवाड़ी से ट्रांसफर होकर पानीपत आईं और अब पानीपत में फिर से उनका सामना मंत्री अनिल विज से हो गया। यही नहीं, वे फिर से मंत्री के गुस्से का शिकार हो गई। उन्होंने एसपी साहिबा की शिकायत सीएम खट्टर से कर दी। एसपी कालिया का सवा दो महीने के अंदर दोबारा से ट्रांसफर कर दिया गया था। अब वह रेलवे में एसपी के तौर पर कार्यरत हैं।

YOUR REACTION?

Facebook Conversations



Disqus Conversations