बनारस के लोगों को भी इसका सीधा लाभ मिल रहा है। बनारस रेल कारखाना का अपना हरा-भरा काफी बड़ा परिसर है। यहां तक कि लोगों के इलाज के लिए अपना अस्पताल है

नयी दिल्ली. बनारस रेल कारखाना (ब.रे.का.) इंजन उत्पादन के लिए जाना जाता है, लेकिन इन दिनों कोरोना की लड़ाई में भी यह अपना भरपूर योगदान दे रहा है। यही नहीं बनारस के लोगों को भी इसका सीधा लाभ मिल रहा है। बनारस रेल कारखाना का अपना हरा-भरा काफी बड़ा परिसर है। यहां तक कि लोगों के इलाज के लिए अपना अस्पताल है।  

ब.रे.का में ऑक्सीजन प्लांट लगाने का निर्णय 

बनारस रेल कराखाना ने इस अस्पताल में ही ऑक्सीजन प्लांट लगाने का निर्णय लिया है। बरेका की जीएम अंजलि गोयल बताती हैं कि हमारा अस्पताल सब मरीजों के लिए खुला है। कोई भी यहां आकर भर्ती हो सकता है। इसमें 100 पेशेंट के लिए बिस्तर उपलब्ध हैं। वे आगे कहती हैं, यदि हम एक्स्ट्रा ऑक्सीजन का उत्पादन कर पाते हैं तो वह हम अन्य अस्पतालों को भेज पाएंगे क्योंकि इसकी क्षमता प्रतिदिन 100 सिलेंडर से ज्यादा है। 

कर्मचारियों के अलावा शहर के निवासियों को भी लगा रहे वैक्सीन

यही नहीं बनारस रेल कारखाना में वैक्सीन लगाने का कार्य भी चल रहा है। इसमें ब.रे.का. कर्मचारियों के अलावा शहर के निवासियों को भी वैक्सीन लगाई जा रही है। इस संबंध में आगे जोड़ते हुए ब.रे.का. की जीएम अंजलि गोयल कहती हैं कि हमने एक वैक्सीनेशन सेंटर खोल रखा है, जिसमें कर्मचारियों और उनके परिवार के लोगों को और साथ में बाहर के लोगों को टीकाकरण सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। हमारा सेंटर बीएचयू के बाद सबसे बड़ा सेंटर है। 

ब.रे.का में वैक्सीन लगवाने की अच्छी व्यवस्था 

यहां की अच्छी साफ-सफाई और कोविड प्रोटोकॉल से लोग काफी संतुष्ट हैं। इसके अलावा यहां डॉक्टर, नर्स और स्वास्थ्यकर्मी तो भरपूर सहयोग कर ही रहे हैं, साथ में आरपीएफ के जवान भी तैनात हैं।

YOUR REACTION?

Facebook Conversations



Disqus Conversations